मोहन भागवत की टिप्पणी के बाद एक्शन में आई केंद्र सरकार

 

मोहन भागवत की टिप्पणी के बाद एक्शन में आई केंद्र सरकार
मणिपुर पर गृह मंत्री शाह ने अधिकारियों संग की हाईलेवल मीटिंग

UNN: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को पूर्वोत्तर राज्य में हिंसा की ताजा घटनाओं के मद्देनजर जातीय हिंसा प्रभावित मणिपुर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की। सूत्रों ने बताया कि उच्च स्तरीय बैठक में शाह को शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने राज्य की मौजूदा स्थिति के बारे में विस्तृत जानकारी दी। राज्य की राज्यपाल अनुसुइया उइके से यहां मुलाकात के एक दिन बाद गृह मंत्री ने मणिपुर की स्थिति का जायजा लिया।
माना जा रहा है कि उइके ने उन्हें वहां की कानून-व्यवस्था की स्थिति से अवगत कराया था। हाल ही में राजधानी इंफाल और जिरीबाम में ताजा हिंसा की खबरें आई थीं। सूत्रों ने बताया कि केंद्र जिरीबाम जैसे नए इलाकों में फैल रही हिंसा को लेकर चिंतित है, जो पिछले एक साल से काफी हद तक शांतिपूर्ण रहा है। बैठक के दौरान मणिपुर सरकार के प्रतिनिधियों ने कहा कि जिन इलाकों में ताजा हिंसा की सूचना मिली है, वहां पर्याप्त बल तैनात किए गए हैं।
बैठक में राज्य सरकार की ओर से मणिपुर सरकार के सुरक्षा सलाहकार कुलदीप सिंह, पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) राजीव सिंह और मुख्य सचिव विनीत जोशी शामिल हुए। लेकिन मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह बैठक में मौजूद नहीं थे। घंटे भर चली बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, इंटेलिजेंस ब्यूरो के निदेशक तपन डेका, सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे, भावी सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। बहुसंख्यक मेइती समुदाय की अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मांग के विरोध में राज्य के पहाड़ी जिलों में आदिवासी एकजुटता मार्च के बाद 3 मई, 2023 को मणिपुर में जातीय हिंसा भड़क उठी थी। तब से जारी हिंसा में कुकी और मेइती समुदायों तथा सुरक्षा बलों के 220 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने 10 जून को मणिपुर में एक साल के बाद भी शांति नहीं कायम होने पर चिंता जताई थी। भागवत ने नागपुर में स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मणिपुर पिछले एक साल से शांति स्थापित होने की प्रतीक्षा कर रहा है। दस साल पहले मणिपुर में शांति थी। ऐसा लगा था कि वहां बंदूक संस्कृति खत्म हो गई है, लेकिन राज्य में अचानक हिंसा बढ़ गई है।” उन्होंने कहा, ‘‘मणिपुर की स्थिति पर प्राथमिकता के साथ विचार करना होगा। चुनावी बयानबाजी से ऊपर उठकर राष्ट्र के सामने मौजूद समस्याओं पर ध्यान देने की जरूरत है।” आरएसएस प्रमुख ने कहा कि अशांति या तो भड़की या भड़काई गई, लेकिन मणिपुर जल रहा है और लोग इसकी तपिश का सामना कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

उत्तर प्रदेश के गोंडा में हुए रेल हादसे पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने जताया दुख

  नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के गोंडा में हुए रेल हादसे पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने दुख जताया है। उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से राहत और बचाव कार्य में सहयोग की अपील की। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, “उत्तर प्रदेश के गोंडा में चंडीगढ़-डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस के डिरेल होने […]

India Tour Of Sri Lanka: श्रीलंका दौरे के लिए भारतीय क्रिकेट टीम की घोषणा

  नई दिल्ली। श्रीलंका दौरे के लिए भारतीय क्रिकेट टीम की घोषणा कर दी गई है, जिसमें टी20 विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे कई खिलाड़ियों की वापसी हुई है। सूर्यकुमार यादव को टी20 टीम का कप्तान नियुक्त किया गया है, जबकि जिम्बाब्वे के खिलाफ टीम की अगुआई करने वाले शुभमन गिल उप-कप्तान […]