महाराष्ट्र में लागू हो राष्ट्रपति शासन, आठवले ने गृहमंत्री को लिखा पत्र

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के राज्यसभा सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले ने एक बार फिर राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग उठाई है। महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर सौ करोड़ रुपये वसूली का आरोप लगने पर केंद्रीय मंत्री आठवले ने सोमवार को गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की दिशा में कार्रवाई की मांग की है। मोदी सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले ने गृहमंत्री अमित शाह को लिखे पत्र में महाराष्ट्र को लेकर पांच प्रमुख मुद्दे उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि 25 फरवरी को उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक से लैस कार बरामद होती है। जिसकी जांच एनआईए और एटीएस कर रही है। इस बीच मुंबई के कमिश्नर पद से हटाए गए परमवीर सिंह का पत्र सामने आता है, जिसमें वह गृहमंत्री अनिल देशमुख पर सौ करोड़ रुपये वसूली का सचिन वाजे को टारगेट देने का आरोप लगाते हैं। महाराष्ट्र सरकार के लिए यह बहुत शर्मनाक घटना है। केंद्रीय राज्य मंत्री आठवले ने कहा है कि इन सब हालात को देखते हुए पता चलता है कि महाराष्ट्र में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। कानून-व्यवस्था फेल हो चुकी है। आठवले के मुताबिक, कानून व्यवस्था ही नहीं बल्कि कोविड 19 प्रबंधन के मोर्च पर भी महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार फेल है। कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इस नाते महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

Youtube को टक्कर देने आ रहा नया वीडियो पोर्टल, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से अब एक और बड़ा कदम

Youtube को टक्कर देने आ रहा नया वीडियो पोर्टल, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से अब एक और बड़ा कदम सरकार ऑनलाइन पोर्टल पर काफी ध्यान दे रही है. सरकार समय-समय पर कई नई वेबसाइट और पोर्टल लॉन्च कर रही है। अब ऐसा ही एक फैसला सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने लिया है. मंत्रालय […]

दुनिया में है भारत का दबदबा! रूस-यूक्रेन युद्ध में मध्यस्थता के लिए है तैयार – विदेश मंत्री एस जयशंकर

दुनिया में है भारत का दबदबा! रूस-यूक्रेन युद्ध में मध्यस्थता के लिए है तैयार – विदेश मंत्री एस जयशंकर नई दिल्ली : विदेश मंत्री एस जयशंकर ने संकेत दिया है कि अगर भारत से संपर्क किया जाता है तो वह रूस-यूक्रेन युद्ध को समाप्त करने के लिए मध्यस्थ की भूमिका निभाने पर विचार करने के […]