पश्चिम रेलवे द्वारा लॉकडाउन के दौरान 1000 से अधिक पार्सल विशेष ट्रेनों के परिचालन का बड़ा आंकड़ा पार

Mumbai: पश्चिम रेलवे की पार्सल विशेष ट्रेनें कोविड महामारी के कठिन समय में भी देश भर में अत्यावश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बखूबी सुनिश्चित कर रही हैं। विभिन्न बाधाओं और श्रमिकों की कमी के बावजूद, पश्चिम रेलवे ने लॉकडाउन के दौरान कुल 1008 पार्सल विशेष ट्रेनों को चलाकर 1000 पार्सल विशेष ट्रेनों के परिचालन के बड़े आंकड़े को पार कर लिया है। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल के सक्षम मार्गदर्शन और सतत निगरानी के कारण यह उपलब्धि संभव हो पाई है। श्री कंसल ने पश्चिम रेलवे की टीम को इस अहम उपलब्धि के लिए हार्दिक बधाई दी है । कोविड महामारी को देश में आए हुए एक साल हो चुका है और इस दौरान पश्चिम रेलवे लोगों की सेवा के अपने सामाजिक दायित्व को पूरी तत्परता से निभा रही है ।
पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, पश्चिम रेलवे के प्रधान कार्यालय और मंडलों में नए ट्रैफिक को आकर्षित करने के लिए गठित बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट्स (BDU) ने माल ढुलाई को बढ़ावा देने में प्रमुख भूमिका निभाई है । बीडीयू के प्रयासों के कारण पश्चिम रेलवे के माल यातायात ने अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को पार कर लिया है। प्याज, रासायनिक रंग, वस्त्र आदि को गुजरात से बांग्लादेश भेजा गया है। बीडीयू ने गैल्वेनाइज्ड बक्से,बांस की लुगदी आदि जैसे नए यातायात का पता लगाया है। 23 मार्च, 2020 से 22 मार्च, 2021 तक पश्चिम रेलवे द्वारा अपनी 1008 पार्सल विशेष ट्रेनों के माध्यम से लगभग 2.98 लाख टन सामग्रियों का परिवहन किया गया है, जिनके अंतर्गत मुख्य रूप से कृषि उत्पाद, दवाइयाँ, मछली, दूध आदि शामिल हैं। इस परिवहन के माध्यम से राजस्व लगभग 106.63 करोड़ रुपये रहा है। इस अवधि के दौरान पश्चिम रेलवे द्वारा 183 मिल्‍क विशेष ट्रेनें चलाई गईं, जिनमें वैगनों का शत-प्रतिशत उपयोग करते हुए लगभग 1.35 लाख टन का लदान किया गया। इसी प्रकार, 80 हजार टन से अधिक भार वाली 620 कोविड-19 पार्सल विशेष ट्रेनें भी विभिन्न अत्‍यावश्यक वस्तुओं के परिवहन के लिए चलाई गईं। इनके अतिरिक्त, लगभग शत-प्रतिशत उपयोग के साथ 56 हज़ार टन का भार वहन करने वाले 123 इंडेंटेड रेक भी चलाये गये। 27 हजार टन से अधिक का भार वहन करने वाली 82 किसान रेल स्‍पेशल ट्रेनें अब तक चलाई गई हैं। लॉकडाउन की अवधि के दौरान, 22 मार्च, 2020 से 22 मार्च, 2021 तक पश्चिम रेलवे द्वारा 77.85 मिलियन टन की अत्‍यावश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए माल गाड़ियों के कुल 35,171 रेकों का उपयोग किया गया है। अन्य जोनल रेलों के साथ 72,823 मालगाड़ियों को इंटरचेंज किया गया है, जिनमें 36,469 ट्रेनों को हैंडओवर किया गया और 36,359 ट्रेनों को अलग-अलग इंटरचेंज पॉइंटों पर टेकओवर किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

दिल्ली शराब नीति केस में केजरीवाल को मिली नियमित जमानत

  नई दिल्ली । दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नियमित जमानत मिल गयी है। शराब घोटाले मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री को गिरफ्तार किया गया था। केजरीवाल को एक लाख रुपये के मुचलके पर राउज एवेन्यू कोर्ट ने जमानत दी है। अरविंद केजरीवाल जमानत की प्रक्रिया पूरी होने के बाद शुक्रवार को जेल से […]

Monsoon 2024 Latest Update : दिल्ली-एनसीआर में मानसून 30 जून के आसस पा, IMD का Latest Update

  Monsoon 2024 Latest Update : दिल्ली-एनसीआर में मानसून 30 जून के आसस पा, IMD का Latest Update नई दिल्ली: दिल्ली एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में भीषण गर्मी से हाहाकार मचा हुआ है। आसमान से आग के गोले बरस रहे हैं, जिससे लोग पसीनों से तर-बतर हैं। लू ने उन्हें घरों के अंदर कैद कर […]