तुलसी के नियमित पूजा करने से सभी बाधाओं दूर

 

UNN@ तुलसी को हिंदू धर्म में विशेष महत्वत बताया गया है। इसकी नियमित पूजा करने से सभी देवी-देवताओं का आशीर्वाद मिलने लगता है, वहीं जीवन में आने वाली सभी प्रकार की बाधाएं भी दूर होती है। यदि किसी व्यक्ति को अचानक धन हानि होने लग जाए या स्वास्थ्य खराब हो जाए या किसी की बुरी नजर लग जाए तो तुलसी के सात पत्ते और सात काली मिर्च मुट्ठी में लें। इसके बाद जिस व्यक्ति की नजर उतारनी है, उसे लिटा दें और मुट्ठी बांध उसके सिर से पैर तक 21 बार ऊँ-ऊँ मंत्र बोलकर वार लें। इसके बाद काली मिर्च पीड़ित व्यक्ति को चबाने को दें और तुलसी के पत्तों को मसलकर निगलने को दें। अंत में प्रभावित व्यक्ति को लेटाकर उसके तलवों को किसी कपड़े से 7 बार या 11 बार झाड़ दें। यदि कोई व्यक्ति सभी कार्यों में सफलता प्राप्त करना चाहता है तो तुलसी की जड़ को निमंत्रण देकर अपने घर ले आएं। उसे गंगाजल से धोकर पूजन करे और फिर उसे दाएं हाथ पर पीले कपड़े में लपेटकर बांध लें। पूजन करते समय किसी तुलसी मंत्र का जप करेंगे तो श्रेष्ठ रहेगा। यह एक तांत्रिक उपाय है और इसे करने पर आपको धन संबंधी कार्यों में भी विशेष सफलता प्राप्त होगी। यदि आप मालामाल होना चाहते हैं तो घर के मुख्य दरवाजे के दोनों ओर तुलसी के पौधे गमले में लगाएं। प्रतिदिन तुलसी की उचित देखभाल करें। इस उपाय से आपके घर में धन आने लगेगा और पैसों की तंगी खत्म हो जाएगी। दरवाजे के दोनों ओर तुलसी का पौधा लगाने से घर में नकारात्मक ऊर्जा नहीं आएगी और सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती जाएगी। यह आपके लिए काफी लाभदायक सिद्ध होगी।
रोज़ शाम को तुलसी के पास दीपक जलाएं। इस उपाय से महालक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। रोज़ सुबह तुलसी को जल चढ़ाएं। तुलसी की देखभाल करें। इस उपाय से स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं और देवी-देवताओं की कृपा भी मिलती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

भव शंकर देशिक मे शरणम् सहित आचार्य शंकर विरचित स्रोतों के गान से गूंजा एकात्म धाम

  भव शंकर देशिक मे शरणम् सहित आचार्य शंकर विरचित स्रोतों के गान से गूंजा एकात्म धाम आचार्य शंकर प्रकटोत्सव के दूसरे दिन हुए विभिन्न कार्यक्रम Indore: आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास, संस्कृति विभाग मध्य प्रदेश शासन द्वारा आचार्य शंकर जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित पंच दिवसीय आचार्य शंकर प्रकटोत्सव के दूसरे दिन एकात्म धाम […]

chaitra-navratri : पवित्र चैत्र नवरात्रि

  UNN – नवरात्रि का पहला दिन यानी प्रतिपदा तिथि मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप माता शैलपुत्री को समर्पित माना जाता है। इस दिन जौ (जवार)बोने तथा कलश स्थापना पूजन के साथ ही देवी का पूजन किया जाना शुभ माना जाता है। यह भी शास्त्रों में लिखा गया है कि प्रथम दिवस में माता की […]